Change your life today.

Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

Thursday, April 4, 2019

हनुमान बैनिवाल ने मिलाया बीजेपी से हाथ , ये रही मुख्य वजह

खीवसर से 4 बार विधायक रहे जाट नेता हनुमान बैनिवाल ने भारतीय जनता पार्टी से समझोता करते हुये , नागौर लोकसभा सीट से चुनाव लडने का निर्णय किया है वहीं समझोते के तहत बीजेपी नागौर से अपना लोकसभा उम्मीदवार खडा नही करेगी । ये एलान हनुमान बैनिवाल और बीजेपी ने संयुक्त प्रेस काॅन्फ्रेस में किया ।

प्रेस काॅन्फ़्रेस में उपस्थित बीजेपी के राष्ट्रीय नेता प्रकाश जावेडकर ने कहा कि "हमें बहुत खुशी है कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी अब हमारे साथ है और अब हम मिलकर काम करेंगे और आरएलपी के मुख्य बैनिवाल जी से आग्रह किया है कि वे नागौर लोकसभा से लडे और बाकी सभी सीटों पर बीजेपी के लिये प्रचार करें , सिर्फ राजस्थान में ही नही हरियाणा और पश्चिम उतर प्रदेश में भी उनके सभी कार्यकर्ता प्रचार करेंगे ।

इस प्रेस वार्ता में हनुमान बैनिवाल ने कहा कि " सबसे पहले में हमारे राजस्थान के प्रभारी और केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावेडकर जी जिन्होंने बीजेपी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के गठबंधन में अहम भुमिका निभाई उसके लिये उनको धन्यवाद देता हुँ । आगे बोलते हुये उन्होने कहा कि हमारे लिये राष्ट्रीय हित सर्वोपरि है उसके लिये हमने ये फैसला किया है , आरएलपी के लाखों कार्यकर्ता राजस्थान हि नही हरियाणा , पश्चिम उतर प्रदेश , मध्य प्रदेश और पंजाब में नरेन्द्र जी मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिये अपनी ताकत लगा देंगे और मुझे पुरा विश्वास है इस बार भी राजस्थान से 25-0 का रिजल्ट आयेगा । साथ हि उन्होने कहा की काँग्रेस ने 70 सालों में देश को चुसने का काम किया है , मैं बीजेपी से विधायक पहले भी रहा हुँ , मेरा काँग्रेस के साथ वेसे भी ऐडजस्टमेंट नही बैठता । पाकिस्तान और चीन पर बोलते हुये हनुमान ने कहा कि अगर चीन और पाकिस्तान का कोई इलाज कर सकता है तो वो है श्रीमान नरेन्द्र मोदी "

आपको बता दे की जाट नेता हनुमान बैनिवाल ने अपनी राजनीतिक यात्रा छात्र राजनीति से शुरु की थी , और एक बार बीजेपी से विधायक भी रहे । उसके बाद हनुमान बैनिवाल ने कुछ अनबन के चलते बीजेपी को छोडकर खींवसर से निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव लडा और वो विधायक बने । हनुमान बैनिवाल खींवसर से 2 बार निर्दलीय विधायक रहे है ।

राजस्थान के पिछले विधानसभा चुनाव में उन्होने अपनी नई पार्टी "राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी " बनाई । विधानसभा चुनाव में उनकी "राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी " ने 3 सीटे जीती , जिसमें से 1 सीट खींवसर थी जहाँ से हनुमान बैनिवाल जीते । इस बार लोकसभा चुनावों में बीजेपी के साथ समझोते से उन्हे 25 में से 1 सीट नागौर की मिली है , शेष सभी 24 सीटों पर बीजेपी अपने उम्मीदवार खडा करेगी और हनुमान बैनिवाल इन सीटों पर बीजेपी के लिये प्रचार करेंगे ।

जहा कुछ लोग हनुमान बैनिवाल के इस फैसले का समर्थन कर रहें है , वही कुछ लोगों नें इस "थुक कर चाटना बताया " । क्योंकि जाट नेता हनुमान बैनिवाल इस गठबंधन से पहले तक बीजेपी और महारानी सरकार के खिलाफ तीखे कटाक्ष करते आये है । हनुमान बैनिवाल बीजेपी को छोड़कर निर्दलीय चुनाव लडे , फिर अपनी अलग पार्टी बनाई और अब बीजेपी के साथ गठबंधन कर लिया ये बात जनता को समझ नही आ रही ।

उन्होने ये गठबंधन किस एजेंडे को ध्यान में रखते हुये किया ये तो उनके सिवाय कोई नही जानता पर उनका ये गठबंधन लोगो की सोच से परे है । वही हनुमान बैनिवाल के इस फैसले के बाद राज्य कि सियासत गर्मा गई है । देखना है इस गठबंधन का भविष्य क्या रहता है , क्या ये गठबंधन आगे भविष्य के विधानसभा चुनाव में भी बरकरार रह पायेगा ?

आपकी इस गंठबंधन के बारे में क्या राय है , हमें कमेंट बाक्स में जरुर बताये ।

No comments:

Post a Comment

Pages